Shayari Collection in Hindi Shayari Collection Urdu Shayari Collection image

Spread the love

Shayari Collection in Hindi, shayari collection urdu, shayari collection in english, shayari collection image, shayari collection for friends, shayari collection for gf, hindi shayari collection in hindi language, old shayari collection, best shayari collection, hindi shayari collection love

Shayari Collection in Hindi

समझने ही नहीं देती सियासत हम को सच्चाई,
कभी चेहरा नहीं मिलता कभी दर्पन नहीं मिलता।

shayari collection urdu

कैसे मिलेंगे हमें चाहने वाले बताइये
दुनिया खड़ी है राह में दीवार की तरह
वो बेवफ़ाई करके भी शर्मिंदा ना हुए
सजाएं मिली हमें गुनहगार की तरह

shayari collection in english

manzil bhi usi kithi rashta bhi usi ka tha
ek hum hi akele the kafila bhi usi ka tha
saath saath chalne ki kasam bhi usi thi
aur rasta badalne ka faisla bhi usi ka tha

shayari collection image

मेरी वफ़ा की कदर ना की
अपनी पसंद पे तो ऐतबार किया होता
सुना है वो उसकी भी ना हुई,
मुझे छोड दिया था उसे तो अपना लिया होता

shayari collection for friends

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।

shayari collection for gf

तन्हाई का उसने मंज़र नहीं देखा
अफ़सोस की मेरे दिल के अन्दर नहीं देखा
दिल टूटने का दर्द वो क्या जाने,
वो लम्हा उसने कभी जी कर नहीं देखा

hindi shayari collection in hindi language

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

old shayari collection

एक फूल का दर्द उसकी जुकि डाली समझते हे
बाग की बात बाग का माली ही समझते हे
ये किस तरह की रात बनाई हे दुनियावाले ने
दिए का दिल जलता हे और लोग रोशनी समजते हे

best shayari collection

कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी,
चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है,
माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास,
पर तू ये बता कितनी रातें चैन से सोया है।

hindi shayari collection love

हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ,
दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे,
ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर,
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *